prime minister narendra modi launched swachhta seva abhiyan india


स्वच्छता अभियान में श्रमदान करने वालों का नाम सुनहरे अक्षरों में आएगा: PM मोदी

नई दिल्ली: स्वच्छता अभियान में लोगों से श्रमदान की अपील करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि भविष्य में इस जन आंदोलन के बारे में जब भी लिखा या पढ़ा जाएगा तो सभी स्वच्छाग्रहियों का नाम सुनहरे अक्षरों में आएगा. ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान की शुरूआत करने के बाद नरेन्द्र मोदी एप एवं वीडियो लिंक के जरिये स्वच्छाग्रहियों से संवाद करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा उत्साह उफान पर है, हमारा विश्वास चरम पर है और हमारा संकल्प सिद्धि के लिए है. आप सभी श्रमदान के लिए तैयार और तत्पर हैं. 

गंगा की सफाई के बारे में मोदी ने कहा कि मैं आप सभी साथियों के इस प्रयास को नमन करता हूं. मां गंगा की सेवा का ये पुण्य जो आप कर रहे हैं, उसका लाभ देश को होने वाला है. गंगा किनारे बसे गांवों में खुले में शौच से मुक्ति मां गंगा की निर्मलता के लिए एक महत्वपूर्ण पड़ाव है. मोदी ने कहा कि गंगा हमारी संस्कृति है, विरासत है, पहचान है. मां गंगे के प्रति समर्पण और सम्मान गंगोत्री से गंगा सागर तक ना सिर्फ दिखना चाहिए, बल्कि उसे कष्ट देने की मानसिकता को दिमाग से निकालना भी चाहिए. उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि मैं गंगा तट पर बसे हर भाई-बहन से आग्रह करना चाहता हूं. क्या आप सभी इस स्वच्छता ही सेवा पखवाड़े के दौरान मिलकर गंगा सफाई के लिए श्रमदान कर सकते हैं?  

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छता का समूह भावना से बहुत निकट का संबंध है. ट्रेन के डिब्बे में लिखा होता हैं कि भारतीय रेल, जनता की सम्पत्ति है. यह इसलिए लिखा जाता हैं क्योंकि लोग अपनेपन से उस संपदा की तरफ देखें और उसका संरक्षण करें. उन्होंने कहा कि देश के इतने बड़े रेल नेटवर्क को स्वच्छ रखने, यात्रियों के लिए सुविधा संपन्न रखने में रेलवे के सभी कर्मचारियों की भूमिका अहम है. आज रेलवे में साफ-सफाई को लेकर जो भी सुधार देखने को मिल रहा है उसके पीछे इन सभी का योगदान हैं. 

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से संवाद के दौरान मोदी ने कहा कि शौचालयों के निर्माण में उत्तर प्रदेश ने बहुत तेज गति से प्रगति की है. करीब दो वर्षों के भीतर दोगुने से भी अधिक शौचालयों का निर्माण, सच में विराट उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि बहुत ही जल्दी यूपी के 22 करोड़ से अधिक जन खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर देंगे. उन्होंने योगी आदित्यनाथ को बधाई देते हुए कहा कि वो गांव-गांव में साफ सफाई के अभियान से लंबे समय से जुड़े हुए हैं. पहले गोरक्षपीठ के मुखिया के नाते, जनप्रतिनिधि के तौर पर और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में उनका प्रयास दिख रहा है. 


0 Comments


Leave a Reply